समा के चावल (Sama Ke Chawal) जिसको बहुत सारे नामों से जाना जाता है यहाँ तक की एक ही क्षेत्र में रहने वाले भी इसको नाम बदल बदल के पुकारते हैं वही स्थानों के परिवर्तन के साथ तो नाम बदल हो ही जाते हैं, कही समा तो कही सामक और संस्कृत में इसे श्रामक कहते हैं.

अन्य भाषाओं में भी इसके अनेक नाम है.

मूल रूप से खतपतवार या कहें एक जंगली घास जो स्वतः ही बोई हुई फसलों के साथ उग जाती हैं की तरह उगने वाली यह अनचाही फसल जाने अनजाने कब हमारे खाने का महतवपूर्ण हिस्सा बन गई इसके बारे में कहना जरा कठिन है लेकिन वर्तमान में समा को (Sama Ke Chawal) को व्रत के चावल के रूप में देखा जाता है इसमें कोई भी संशय नही है प्रदेश भले ही बदल जाते हो लेकिन इसकी उपयोगिता जस की तस बनी रहती है.

Sama Ke Chawal-Vrat Ke Chawal-समा के चावल-Samak Ke Chawal-व्रत के चावल.

Sama Ke Chawal-Vrat Ke Chawal-समा के चावल-Samak Ke Chawal-व्रत के चावल.

समा के चावल एवं वैज्ञानिक द्रष्टिकोण | Sama Ke Chawal & Scientific Approach

अगर वैज्ञानिक द्रष्टिकोण की बात करें तो समा के चावल को (Sama Ke Chawal) एचिलोना कोलोना के नाम से जाना जाता है और यह मुख्य रूप से एशिया के गर्म व आद्र क्षेत्रों में अधिक उगता है.

अगर विस्तार से सामक के बारे में जानने की कोशिश करें तो यह एक ऐसा खाने योग्य चावल है जो मजबूरी वश यहाँ भूखमरी के समय में अनाज के आभाव में खाना शुरू किया गया था और फिर बाद में समा के  गुणों के कारण इन चावलों को  मजबूती के साथ खानों में शामिल कर लिया गया.

समा का चावल (Vrat Ke Chawal) बेहद लाभकारी व पोष्टिक होता है व व्रत के खानों में मुख्य स्थान रखता है फिर चाहे वह हमारे हिन्दुओं के सबसे बड़े व्रत चक्र नवरात्री हो जो मुख्यतौर से साल में दो बार आते हैं, या साल भर समय-समय पर आने वाले अलग-अलग तरह के व्रत सभी में समा के चावल को शामिल किया जाता है व इसके भांति भांति के व्रत के व्यंजन बनाकर खाये जाते हैं.

हम समा के चावल (Sama Ke Chawal) से समा के चावल (व्रत के चावल) की खिचड़ी या पुलाव बनायेंगे जिसको बेहद पसंद किया जाता है.

समा के चावल के लिए सामग्री | Sama Ke Chawal

  • समा के चावल – 125 ग्राम (आधा पाव)
  • आलू – 2 (मध्यम साइज़ के)
  • मूंगफली के दाने – 2 से 3 चम्मच (लगभग 25 ग्राम)
  • करी पत्ता – 8 से 10
  • देसी घी – 3-4 टेबल स्पून
  • हरा धनिया – 2-3 टेबल स्पून (बारीक कटा हुआ)
  • जीरा – 1 छोटी चम्मच
  • हरी मिर्च – 2 (बारीक काटी हुई)
  • काली मिर्च – 8-10 (दरदरी कुटी हुई)
  • सेंधा नमक – 1 छोटी चम्मच (नमक स्वादानुसार ही लें)

समा के चावल बनाने की विधि | How to Prepare Vrat Ke Chawal

समा के चावल (Samak Ke Chawal) को एक बार ध्यान से देखे, चूँकि कई बार इनके अन्दर छोटे पत्थर भी निकल आते हैं जो खाते समय मुहँ में आकार बहुत परेशान करते हैं, इनको दो से तीन बार पानी में धोकर 10 मिनट के लिए पानी में भिगोकर छोड़ दें.

इस दौरान आलू को छीलकर छोटे-छोटे टुकड़ों में काटे व पानी से धोकर रख लें,

आओ चले तड़कायें लगायें समा के चावल (Sama Ke Chawal) |Lets fried Samak Ke Chawal

एक कढ़ाई या कोई भी गहरी तले के बर्तन को जिसकी तली थोड़ी भारी (heavy) भी हो, गर्म होने के लिए चूल्हे पर रखें व आंच को शुरू कर दें, जब बर्तन गर्म हो जाये घी डालकर गर्म करें व जीरा डालकर चटकने दें, काली मिर्च को डालें व हल्का भून लें, काटी हुई हरी मिर्च को डालें भूने व भिगोकर रखें हुए चावल डालकर लगभग चलाते हुए भूने, दो कप पानी (250 ग्राम) डालकर नमक डालें व ढककर पकने दें, आंच को मध्यम कर के छोड़ दें,

समा के चावल (Sama Ke Chawal) का चटकारा बनाने की विधि | व्रत के चावल का चटपटा पंच | Vrat Ke Chawal

चटकारा बनाने के लिए एक पेन को दुसरे चूल्हे पर गर्म होने के लिए रख दें व फ्लेम चालू करें, घी डालकर उसमे आलू को तल कर निकाल लें, बचे हुए घी में मूँगफली डालें व जब थोड़ी क्रिस्पी हो जाये तो इसमें करी पत्ते तोड़कर दाल दें दोनों को करारा होने तक भूनें, खिचड़ी को देखे खिचड़ी बन चुकी होगी क्योंकि समा के चावल की खिचड़ी बनने में ज्यादा समय नहीं लगता है वैसे भी हमने चावल भिगोकर भी रखे थे.

भूनकर रखें हुए आलू खिचड़ी में मिलायें व भूने हुए मूँगफली व करी पत्ते को ऊपर से डालकर सर्व करें, इस स्वादिष्ट व पोष्टिक समा के चावल की खिचड़ी को माता रानी  का भोग लगाने के पश्चात आप दही या लौकी-दही के रायते के साथ सर्व करें, यह एक अति स्वादिष्ट व्यंजन होने के साथ-साथ व्रत के दौरान आपको जरुरी पोषण देने वाला शानदार व्रत का खाना है.

Sama Ke Chawal-Vrat Ke Chawal- समा के चावल-Samak Ke Chawal- व्रत के चावल

Sama Ke Chawal-Vrat Ke Chawal- समा के चावल-Samak Ke Chawal- व्रत के चावल

समा के चावल बनाते हुए सुझाव

  1. व्रत के चावल (Sama Ke Chawal) देसी घी के स्थान पर वनस्पति घी या रिफाइंड आयल का प्रयोग किया जा सकता है, अपनी पसंद व सामर्थ्य के हिसाब से चुनें.
  2. अगर आपको पसंद हो तो गाजर, शिमला मिर्च, लौकी इत्यादि को भी व्रत के चावल की खिचड़ी के साथ पका सकते हैं, दोनों ही चीजे डाइटरी फाइबर से युक्त होने के कारण फायदेमंद होती हैं, इससे पेट भरने व स्वाद दोनों में इजाफा होगा.
Sama Ke Chawal | Vrat Ke Chawal | सामक के चावल बेहद स्वादिस्ट
Sama Ke Chawal Vrat Ke Chawal समा के चावल Samak Ke Chawal व्रत के चावल

Sama Ke Chawal | समा के चावल जिसको बहुत सारे नामों से जाना जाता है स्थानों के साथ नाम बदल हो ही जाता है, कही समा तो कही सामक और संस्कृत में इसे श्रामक कहते हैं

Type: Fast Dish

Cuisine: Indian

Keywords: Sama Ke Chawal, Vrat Ke Chawal

Recipe Yield: 4

Calories: 150/serving

Preparation Time: PT0H10M

Cooking Time: PT0H15M

Total Time: PT0H25M

Recipe Ingredients:

Editor's Rating:
5

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Sama Ke Chawal | व्रत के चावल | श्रामक के चावल

Sama Ke Chawal-Vrat Ke Chawal- समा के चावल-Samak Ke Chawal- व्रत के चावल