Mooli Ka Achar | Mooli Ka Achar Banane Ki Vidhi | Muli Ke Achar Ki Recipe

मूली का अचार (Mooli Ka Achar) नाम सुनते ही मुंह में पानी आ जाता है,

सर्दियों के मौसम में जब मूली बहुत अधिक मात्रा में आने लगती है और किफायती

भी हो जाती है तो घरों में मूली का अचार डाला जाना शुरू हो जाता है

मूली का अचार (Mooli Ka Achar) होता है सेहतमंद

मूली चाहे मूली का अचार के रूप में हो, मूली की भूजी हो या मूली के पराठे सभी

रूपों हमारे स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद व सेहतमंद होने के साथ स्वाद को भी बढ़ाने

वाली होती है, बहुत सारी छोटी बड़ी ऐसी बीमारियाँ है जो मूली का सेवन करने से ख़त्म

हो जाती है चाहे वह पीलिया हो या पेट की अन्य बीमारी सभी में कारगर होती है  मूली.

इसी लिए मूली को अलग-अलग रूपों में भोजन में शामिल किया जाता है ताकि इसके

फायदों का भरपूर लाभ उठाया जा सके.

आज हम मूली का अचार (Mooli Ka Achar) बनाने की जिस विधि का प्रयोग हम करेंगे

वह बहुत ही आसान विधि है और इससे मूली का अचार बहुत जल्दी तैयार होता और इस

मूली के अचार की लाइफ भी अच्छी खासी होती है अर्थात इस अचार को आप तुरंत खाने

से लेकर एक से डेढ महीने तक आराम से खा सकते है.

मूली का अचार में लगने वाली आवश्यक सामग्री

  • मूली- 1 किलो ग्राम
  • सरसों का तेल – आधा कप
  • सिरका – 2 चम्मच
  • नमक – 2 से 3 छोटे चम्मच (स्वादानुसार)
  • लाल मिर्च पाउडर – 1 चम्मच
  • हल्दी पाउडर – 1 छोटी चम्मच
  • हींग पाउडर – 2 चुटकी (वैकल्पिक)
  • सौंफ – 2 चम्मच
  • मेथी दाना – 1 छोटी चम्मच
  • राई – 4 चम्मच

मूली का अचार बनाने की विधि (Mooli Ka Achar Banane Ki Vidhi)

मूली को पत्तों से अलग करके साफ करें व पानी से अच्छे से धो लें, देख लें अगर मूली

साफ है तो छीलने की जरूरत नहीं है और अगर आपको लगे की मूली को छीलने की

जरूरत है तो छील लें, ठंडी के मौसम में ज्यादातर मूली साफ ही आती है और अच्छे से

धोने से ही साफ हो जाती हैं

मूली का अचार बनाने की विधि (Mooli Ka Achar Banane Ki Vidhi) के लिए मूली को

अपने पसंद के आकार में छोटे टुकड़ों में काटकर एक से दो दिन के लिए धूप में सुखायें

Mooli Ka Achar के लिए छोटे टुकड़ों में काटी हुई मूली
Mooli Ka Achar के लिए छोटे टुकड़ों में काटी हुई मूली

अब सूखी हुई मूली के टुकड़ों को किस थाल या परात में रख लें जिसमें अचार अच्छे से

मिलाया जा सके.

मूली का अचार (Mooli Ka Achar) में डाला जाने वाला मसाला तैयार करने की विधि

एक मिक्सी जार में राइ, सौफ व मेथी दाना लेकर दरदरा पीस लें

Mooli Ka Achar में पड़ने वाले मसालें सरसों का तेल, राइ, मेथी दाना, सौंफ, हल्दी, मिर्च, नमक
Mooli Ka Achar में पड़ने वाले मसालें सरसों का तेल, राइ, मेथी दाना, सौंफ, हल्दी, मिर्च, नमक

मूली के ऊपर ये पिसा मसला डालें व बाकी के पिसे मसालें सूखी लाल मिर्च, हल्दी,

हींग व नमक डालकर अच्छे से मिलायें.

अब ऊपर से सरसों का तेल व डालकर बहुत अच्छी तरह मिलाकर  किसी भी हवा बंद

डब्बे  में भर कर रखें, मूली का अचार खाने के लिए रेडी है माने एकदम तैयार है.

इस मूली के अचार की रेसिपी (Muli Ke Achar Ki Recipe) से बने अचार की खास बात

ये है की इसको आप तुरंत खाना शुरू कर सकते हैं, ये मूली का अचार थोडा क्रंच वाला होता

है, इसको आप खूब खासी मात्रा में खा सकते है क्योंकि ये मूली का अचार बिलकुल नेचुरल

तरीके से डाला गया है और इसमें कोई भी केमिकल प्रयोग नहीं किया गया है  ये आपको नुकसान

नहीं करेगा.

सुझाव Foodiedil Suggestions :

मूली का अचार सरसों के तेल को पका कर भी डाला जाता है लेकिन कच्चा सरसों का तेल डालने

से स्वाद ज्यादा उभर कर आता है क्योंकि कच्चे सरसों के तेल में एक चरचरा पण (pungent)  होता

है जो मूली के अचार को बहुत अच्छा स्वाद देता है, वैसे आप अपने स्वाद के अनुसार डाल सकते हैं

कुछ लोग मूली के अचार को बनाए रखने (preserve) के लिए सिरका के इस्तेमाल भी करते है जो

हमने नहीं किया है क्योंकि शुरु के चार पांच दिन अगर अचार के डब्बे को रोजाना अच्छे से हिलाया

जाये तो अचार बिना किसी केमिकल के बना रहता है

मूली का अचार मूली को हल्की पका कर भी बनाया जाता है लेकिन उस तरीके में क्रंच (कुरकुरा पण)

ख़त्म हो जाता है

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *