ग्वार की फली की सब्जी (Gwar Ki Fali) एक बेहद स्वादिस्ट और पोषक तत्वों से भरी हुई सब्जी है, वैसे मुझे यहाँ यह कहने में जरा भी संकोच नहीं कि ग्वार एक पूर्ण विकसित (Mature taste) स्वाद वाली सब्जी है जो कई बार बच्चों को ज्यादा पसंद नहीं आती है, लकिन बेहद फायदेमंद होने के कारण हम लोग इसको घरों में कुछ इस तरह के तालमेल से बनाते हैं जिससे बच्चे भी इसको अच्छे से खाकर इसके सभी लाभ प्राप्त कर सके, आज भी हम ग्वार की फली को आलू के साथ बनायेंगे जिससे इसका स्वाद और भी बढ़ जायेगा.

ग्वार की फली (Gwar Ki Fali) के बारे में कुछ जरुरी तथ्य | Gwar Ki Sabji

यहाँ यह बताना भी जरुरी हो जाता है कि ग्वार की फली (Gwar Ki Sabji) बाजार में दो तरह की दिखायी पड़ती है जितना मैं जनता हूँ, एक तो वह फली होती है जो देखने में थोड़ी बड़ी व मोटी होती है और सभी एक दुसरे से अलग-अलग होती हैं. इन फलियों को साफ करके सीधे काट लिया जाता है व आलू और अन्य मसालों के साथ पकाकर खाया जाता है.

वही दूसरी प्रकार की फली आकार में थोड़ी पतली व छोटी होती है व प्रायः गुच्छों में एक दुसरे से परस्पर जुडी रहती है व स्वाद में भी थोड़ी तल्ख (strong taste) होती हैं इन फलियों को देसी फली के नाम से जाना जाता है और ये बहुत कम समय के लिए उपलब्ध होती है, इनको बनाने से पहले सफाई में काफी मसक्कत करनी पड़ती लेकिन इनका स्वाद भी ज्यादा स्ट्रोंग होता है.

कुछ लोग इन फलियों को साफ करके पहले बॉयल्ड (उबाल) कर लेते हैं व फिर निचोड़कर निकालकर प्रोसेस करते हैं, जिससे इन फलियों स्वाद भी थोडा मृदु (mild) हो जाता है.

ग्वार की फली (Gwar Ki Fali) की सब्जी के लिए सामग्री | Ingredients for Gwar Ki Sabji

4 से 5 व्यतियों के लिए

  • ग्वार की फली – 500 ग्राम
  • आलू – 2 से 3 मीडियम आकार के
  • प्याज – 1 मीडियम आकार का बारीक काटा हुआ
  • लहसुन – 5 से 6 कली बारीक कुतरी हुई या एक चम्मच सूखा लहसुन पाउडर
  • हरी मिर्च – 2 बारीक काटी हुई
  • जीरा – ½ छोटी चम्मच
  • अजवायन – ½ छोटी चम्मच
  • हींग – 1 चुटकी
  • हल्दी पाउडर – ½ छोटी चम्मच
  • पिसी लाल मिर्च –  ½ छोटी चम्मच
  • पिसा धनिया – 1 चम्मच
  • अमचूर पाउडर – 1 छोटी चम्मच
  • तेल – 2  बड़े चम्मच (सरसों का तेल या कोई भी खाने वाला तेल)
  • नमक – 2 छोटे चम्मच या स्वादनुसार
  • ग्वार की सब्जी रेसिपी

Gwar Ki Fali Ki Sabji | ग्वार की फली की सब्जी बनाने की विधि

ग्वार की फलियों (Gwar Ki Fali) के शिरों को तोड़कर उनके धागे निकाल लें, व छोटे-छोटे 1 सेंटीमीटर के टुकड़ों में काटकर पानी से धोकर किसी छलनी में रखकर छोड़ दें ताकि पानी निचड़ (निकल) जाये. आलू को छीलकर अपने पसंद के टुकड़ों में काटकर पानी से धोकर रखें.

ग्वार की फली की सब्जी का तड़का | Gwar Ki Sabji | How to Make Gwar Fali

एक पेन या कढ़ाई में तेल गर्म करके जीरा व अजवायन तड़का लें, अगर ताजा लहसुन प्रयोग कर रहे हैं तो डालें, हल्का भूनें, काटकर  कटे प्याज को डालकर हींग मिलायें व प्याज के गुलाबी होने तक भूनें, हरी मिर्च डालें, सारे सुखें मसाले हल्दी, धनिया, लाल मिर्च व पिसा लहसुन पाउडर डालकर 30 सेकंड तक भूनें.

आंच को मध्यम हीट पर ही रहने दें, ग्वार की फली व आलू मिलायें व पलटे से चलाते हुए मिलायें, नमक डालें और मिलकर ढककर दस मिनट तक पकने दें, आंच को मीडियम से थोडा कम करके रखिएँ. नमक से फली व आलू अपना पानी छोड़ देंगे जिसमे सब्जी पक जायेगी, उघाड़कर देखें अगर सब्जी गल चुकी है तो ऊपर से अमचूर पाउडर डालकर मिला दें व डस मिनट के लिए दक्कर ओर पकने दें, आंच को बिलकुल कम पर रखें, ग्वार की सब्जी तैयार है इसको आप गरमा गर्म रोटी फूलको व पराठों के साथ सर्व करके इसका शानदार स्वाद ले सकते हैं.

ग्वार की फली की उबालकर बनायी जाने वाली सब्जी | Gwar Ki Sabji | Gwar Ki Fali Ki Sabji

फलियों के डंटल तोड़कर पानी के साथ प्रेसर कुकर या किसी बर्तन में उबाल लें अगर प्रेसर कुकर में उपल रहें है तो एक सीटी आने तक ही उबालें. फलियों को निचोड़कर लड्डू जैसा बनाकर रख लें व उपरोक्त सामग्री व विधि के साथ बिना आलू के तड़का लगायें, सभी तैयार है.

ग्वार के विषय में कुछ विशेष बातें भी अवश्य जानें | Gwar Ki Fali Ki Sabji Ke Fayde | ग्वार की फली

सम्पूर्ण विश्व के कुल ग्वार उत्पादन का 80% ग्वार भारत में उगाया जाता है. ग्वार प्रायः ग्रीष्मकालीन फसल है व कई सारी अन्य फसलों के साथ भी उगाई जाती है जिनमे प्रमुख है ज्वर बाजरा व गन्ना. ग्वार ठन्डे इलाकों को छोड़कर लगभग सारे भारत में उगाई जाने वाली फसल है, इससे बहुत सारे अन्य पदार्थ भी बनाएं जाते है जिनमे ग्वार गम (गोंद) प्रमुख रूप से बनाया जाता है.

ग्वार गम का उपयोग बहुत सारे अन्य खाध्य पदार्थों में मिलकर किया जाता है जिनमे मुख्य रूप से दूध से बने पदार्थ होते हैं जैसे आइसक्रीम पनीर व चीज इत्यादि, यह एक गाढ़ापन देने वाला तत्व होता है. ग्वार को अंग्रेजी में क्लस्टर बीन्स (Cluster Beans) के नाम से जाना जाता है.

ग्वार पुष्ट करने वाला होता है इसमें प्रोटीन की मात्रा भी अच्छी खासी मात्रा में पाई जाती है, स्वभाव से ठंडा ग्वार आँखों के रतोंघी रोग को ख़त्म करने में भी कारगर माना जाता है. अधिक ठंडा होने के कारण ग्वार गर्मियों में खाया जाता है व इसके साथ लहसुन का उपयोग किया जाता हिया ताकि इसके वात को बैलेंस किया जा सके.

भोजन में रूची उत्पन्न करने वाली ग्वार की फली शुगर व ब्लड प्रेसर के रोगियों को भी लाभ प्रदान करने वाला होता है. इसका स्वाद बेहद शानदार व मन को भने वाला यहाँ तक की मेरे खुद के अनुभव से मैं यह कह सकता हूँ की ग्वार कही न कही सांगरी को भी बराबरी देता है जबकि ग्वार सांगरी से काफी सस्ती सब्जी है.

Gwar Ki Fali | बेहद स्वादिस्ट पोषक तत्वों से भरी हुई सब्जी
Gwar Ki Fali Gwar Ki Sabji Gwar Ki Fali Ki Sabji

Gwar Ki Fali-Gwar Ki Sabji-फायदेमंद होने के कारण हम लोग घरों में कुछ इस तरह के तालमेल से बनाते हैं जिससे बच्चे भी इसको अच्छे से खाकर सभी लाभ प्राप्त कर सके

Type: Sabji Dish for Main course

Cuisine: Indian

Keywords: Gwar Ki Fali, Gwar Ki Sabji

Recipe Yield: 5

Calories: 100/serving

Preparation Time: PT0H10M

Cooking Time: PT0H20M

Total Time: PT0H30M

Recipe Ingredients:

  • Gwar Ki Fali, Aloo
  • Masale, Oil
Editor's Rating:
5

2 thoughts on “Gwar Ki Fali | Gwar Ki Sabji | ग्वार की फली की सब्जी”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Gwar Ki Fali | Gwar Ki Sabji | ग्वार की फली की सब्जी

Gwar Ki Fali-Gwar Ki Sabji-Gwar Ki Fali Ki Sabji