Gulab Jamun Banane Ki Vidhi | Gulab Jamun Recipe In Hindi

गुलाब जामुन या काले जाम
(Gulab Jamun Recipe द्वारा तैयार गोल-गोल स्वादिस्ट गुलाब जामुन
स्वादिष्ट गुलाब जामुन

आज हम इस गुलाब जामुन बनाने की विधि या Gulab Jamun Recipe ब्लॉग के माध्यम से विस्तार से जानेंगे कि गुलाब जामुन कैसे बनाते हैं ।

गुलाब जामुन एक ऐसा नाम है जिसका जबान पर नाम आते ही मन मस्तिष्क में एक गोल-गोल सी छवि स्वतः ही उभर आती है और दिमाग पर छा जाती है ।

गुलाब जामुन जैसा अद्भूत नाम वैसा ही शानदार स्वाद, और इसके आकार की तो बात ही क्या करे।

मन को मोह लेने वालें गोल-गोल आकार में जब सामने आते है तो हाथ स्वतः ही इनकी तरफ बढ़ जाते हैं।

kale Jam

देखने में छोटी बॉल की तरह नजर आने वाले ये गुलाब जामुन वास्तव में इतने मुलायम व स्वादिस्ट होते हैं कि मुँह में जाते ही घुल जाते हैं।

स्वाद सीधा आत्मा तक जाता है, गुलाब जामुन को काला रसगुल्ला, काला जाम इत्यादि नामों से भी जाना जाता है ।

कहा जाता है कि गुलाब जामुन मध्य पूर्व या कहें ईरान से भारत पंहुचा।

ईरान में गुलाब जामुन को “लुक्मत अल कादी” के नाम से जाना जाता है।

भारत में आकर इसमें कुछ बदलाव किये गए और फिर गुलाब जामुन भारत में रच बस गया।

फिर पूर्ण रूप से भारतीय होकर भारतीय मिठाइयों का सिरमौर हो गया ।

खासकर जब हम वेस्टर्न उत्तर प्रदेश की बात करते हैं जिसका बड़ा हिस्सा गंगा जमुना दोआब क्षेत्र के नाम से भी जाना जाता है।

यहाँ गुलाब जामुन को काले रसगुल्लों के नाम से भी जाना जाता है ।

उत्तर भारत में कोई शादी समारोह या कोई भी ख़ुशी का ऐसा मौका नहीं है जब गुलाब जामुन को मुख्य मिष्ठान के रूप में न बनवाया जाता हो ।

गुलाब जामुन को बनाने का तरीका बहुत ज्यादा कठिन नहीं है।

गुलाब जामुन को घर पर बनाना बहुत आसन है और अमूमन 60 से 90 मिनट (एक से डेढ़ घंटा) में इसको बहुत अच्छे तरीके से बनाया जा सकता है ।

चलिये शुरू करते है गुलाब जामुन बनाने की विधि Gulab Jamun Recipe:-

जरूरी सामग्री

  • मावा अथवा खोया – 400 ग्राम
  • पनीर – 150 ग्राम
  • मैदा – 40 से 50 ग्राम
  • सूजी – 1 टेबल स्पून
  • चाशनी के लिये चीनी – 800 ग्राम
  • केसर – आठ दस पंखुड़ी
  • चाशनी के लिये पानी – 400 ग्राम
  • गुलाब जामुन तलने के लिये देसी घी- लगभग 300 ग्राम
  • बादाम – 30 से 40 ग्राम छोटे छोटे टुकड़ों में कटे हुए
  • किशमिश 20 से 25 दानें (प्रत्येक गुलाब जामुन में एक दो दानें के हिसाब से )
  • छोटी इलायची – 8 से 10 इलायची के दानें निकालें हुए (प्रत्येक गुलाब जामुन में एक दो दानें के हिसाब से)

तो उपरोक्त सामग्री के साथ शुरू करते हैं Gulab Jamun Recipe |Kale Jam| with easy steps

मावे को एक थाल या परात में लेकर अच्छे से हाथ से आटे की तरह मथ ले।

ताकि मावा एक दम चिकना व एक सार हो जाये ।

पनीर को पहले एक कद्दुकस (Grater) की सहायता से रगड़ कर फिर अच्छे से हाथ से मथ लिजिये।

अब इसमें मैदा व सूजी मिलाकर आटे की तरह मलकर तैयार कर लीजिये।

अब इस मिश्रण को किसी चम्मच या अपने अनुमान से हाथ में लिजिये और इसके अंदर इलायची, बादाम व किशमिश भरकर छोटे छोटे बॉल जैसे आकार के गोले बना लिजिये।

थोडा रेस्ट करने के लिए एक सूती कपडे से ढक कर रख दीजिये ।

Gulab Jamun Recipe में प्रयोग होने वाली चाशनी बनाने की विधि

गुलाब जामुन की चाशनी बनाने के लिए के गहरे भगोने में चीनी व पानी को मिलाकर आंच पर पकने के लिए चढ़ा दीजिये।

जब चाशनी में उबाल आ जाये तो केसर की पंखुड़ी भी इसमें डाल दीजिये केसर चाशनी को जहाँ स्वाद और रंग तो देता ही है साथ ही साथ स्वास्थ्य वर्धक भी होता है ।

जब घोल थोडा पक जाये तो एक दो बूंद किसी चम्मच की मदद से निकालकर अंगुठे और तर्जनी अंगुली की सहायता से चेक कर लिजिये।

चाशनी हल्की गाढ़ी होकर चिपकनी चाहिए चाशनी बनकर तैयार है।

आंच से उतार कर अलग रख लिजिये ।

(Gulab Jamun Recipe) गुलाब  जामुन के लिय चाशनी
गुलाब जामुन के लिए तैयार चाशनी
आईये शुरू करे गुलाब जामुन को तलना

अब गुलाब जामुन तलने के लिये एक कढ़ाई में घी डालकर आंच पर गर्म होने के लिये रख दीजिये ।

जब घी गर्म हो जाये तो एक गुलाब जामुन डालकर चेक कीजिये।

अगर गुलाब जामुन सिक कर ऊपर आ रहा है तो मानियें घी गुलाब जामुन तलने के लिए घी एक दम सही तापमान पर आ गया है ।

अब बाकि के गुलाब जामुन घी में चार-चार या पांच-पांच की संख्या में डालकर गुलाबी होने तक तलिये।

गुलाब जामुन को घी में तलने के लिए डालते हुए घी को किसी कलछी की सहायता से हिलाते रहिये।

ताकि गुलाब जामुन तली में ना चिपके व हल्का-हल्का घी में हिलता डुलता रहे,

लेकिन इसके साथ ही ये भी ध्यान रखे की कलछी गुलाब जामुन को ज्यादा ना लगे इससे गुलाब जामुन टूट सकते है या काले जाम का आकार बिगड़ सकता है ।

(Gulab Jamun Recipe) देशी घी में तले  जाते हुएं गोल-गोल स्वादिस्ट गुलाब जामुन
कढ़ाई में देसी घी के अंदर तले जाते हुए गुलाब जामुन

आंच को ज्यादा तेज न रखे मध्यम या जरुरत अनुसार धीमा भी कर सकते हैं।

क्योंकि तेज आंच पर गुलाब जामुन की उपरी परत तो सिक जाती है,

परन्तु अन्दर से गुलाब जामुन अच्छे से नहीं सिक पाते हैं ।

गुलाब जामुन को घी से निकाल कर सीधे चाशनी में डालते रहे।

ध्यान रहे चाशनी ना तो ज्यादा गर्म हो और ना ही ज्यादा ठण्डी, सारे गुलाब जामुन घी में तलकर चाशनी में डुबो दीजिये।

गुलाब जामुन या काले जाम बनकर तैयार है ।

Gulab Jamun Recipe से बने शानदार गुलाब जामुन
(Gulab Jamun Recipe)गुलाब-जामुन-चाशनी-में-डूबें-हुए

इन काले जाम को आप गर्म या ठन्डे अपने टेस्ट के अनुसार खा सकते है।

कुछ गुलाब जामुन के चाहने वाले इनको चाशनी के साथ ही खाना पसंद करते हैं,

तो कुछ चाशनी हटाकर, गुलाब जामुन इतने स्वादिष्ठ बने है

कि आप खुद को रोक नहीं पाएंगे और खाते ही जायेंगें ।

सुझाव:-

अगर चाशनी में डालते हुए गुलाब जामुन फट रहें हैं तो एक से तो टेबल स्पून मैदा गुलाब जामुन के बैटर में मिला लिजिये।

ध्यान रखें आप जितना अच्छे से इस मिश्रण को गुथेंगे गुलाब जामुन उतने ही मुलायम एवं अच्छे बनेंगे।

यदि गुलाब जामुन ज्यादा सख्त बन रहें हैं  तो थोडा दूध (दो से तीन चम्मच) गुलाब जामुन के बैटर में मिलकर अच्छे से गूथ लिजिये

गुलाब जामुन सॉफ्ट बनने लगेंगे ।

लगभग आधा घंटे तक चाशनी में डूबें रहने दे ताकि गुलाब जामुन चाशनी को अंदर तक सोंख ले।